तृषा तृप्ति के जलद घनेरे
और शब्द चातक बहुतेरे
गीत हुए ।

सहसा बारिश में सर्द हवा,
आरंभ निशा का हुआ रवां,
वीभत्स ध्वनि में शोर मचाने,
मचले पंछी तब घर को जाने,

कभी सोचा है स्त्री भी एक पौधा ही है --
पर स्त्री को नहीं दिया जाता है इतना सत्कार ...
एक पौधे को रोपने के बाद दिया जाता ...
खाद पानी और रौशनी भी ---

तुम दरबारों के गीत लिखो
मैं जन की पीड़ा गाऊँगा.

लड़ते-लड़ते तूफानों से
मेरे तो युग के युग बीते

जो हमेशा बज़्म का हिस्सा रहे हैं
ये समझ लो उम्र भर तन्हा रहे हैं

तुम समझना चाहते हो रुख़ हवा का
हम हवा को रास्ता समझा रहे हैं

सार्थक संध्या नहीं थी आज की ,
बेपरों चर्चा रही परवाज़ की ।

थे वही क्यों थे मगर बातें हुईं ,
कुछ अदीबों के अलग अंदाज़ की ।

कुछ अधूरा सृजन ,बिखरे सपने
कुछ धुंधली यादेँ, बिछड़े अपने
कुछ अश्रु बूंद ठहरी पलकों पर
मन में उभरते कुछ चित्र अधबने
          इनको ज़रा उकेरूं तो गीत लिखूं। 

चालीसवें बसंत पर हूँ
कल रात की ढ़लान के बाद
अभी भी मैं शायद खिला हूँ...
पर जर्जरता क्षीणता तो नियति है।

तुम माँ हो, दुहिता हो,भगिनी, मित्र तुम्हीं ,
जीवन को जीवन दे मात्र चरित्र तुम्हीं ।

तुम सागर हो प्यार -प्रीति का ममता का,
सहिष्णुता सद्भाव ,सौम्यता ,समता का ।

आये फिर लहरों में तिरने के दिन

घोल रही मधुगन्धा मदमाते घोल
इच्छाएँ घूम रहीं बाँध-बाँध टोल
पल्लव से अंतर के चिरने के दिन

सम्पादक मंडल

मुख्य सम्पादक : कंचन गुप्ता
सह सम्पादक : राज लक्ष्मी दूबे
प्रबंध सम्पादक : अंकित राज

Facebook

रचना प्रेषित करें

"हिन्दी पत्रिका" में प्रकाशन हेतु आपकी साहित्यिक लेख, कविता, कहानी, लघुकथा, व्यंग्य, समीक्षा, संस्मरण आदि रचनाएं आमंत्रित है।

प्रकाशन हेतु लेखक अपनी रचना "editor@hindipatrika.com" पर ईमेल कर सकते हैं।

Powered by RAJMANGAL ASSOCIATES PVT LTD